Bal asana yoga is also known as child pose

Balasana yoga is also known as child pose

बालासन योग: शिशु आसन की महत्वपूर्णता

योग एक आध्यात्मिक और शारीरिक अभ्यास है जो हमारे शरीर, मन, और आत्मा की संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। बालासन योग, जिसे बच्चे के आसन के रूप में भी जाना जाता है, योग के इस महत्वपूर्ण पहलू का प्रतिनिधित्व करता है।

बालासन योग की विशेषताएँ:

  1. आत्म-साक्षात्कार: बालासन योग में, आपका शरीर आपकी अपनी छाती के पास स्थित होता है और आपका माथा मात्रा भूमि से कुछ दूरी पर रहता है। यह आत्म-साक्षात्कार की भावना प्रदान करता है और आपको अपने आत्मा के साथ कनेक्ट होने में मदद करता है।
  2. शारीरिक आराम: इस आसन में, आपके मासपेशियों को आराम मिलता है और आपके पूरे शरीर को एक आरामपूर्ण अवस्था में आने का मौका मिलता है।
  3. मानसिक चिंता का समाधान: बालासन योग को बच्चे के आसन के रूप में जानने के साथ-साथ यह मानसिक चिंताओं को दूर करने में मदद कर सकता है। यह शांति और आत्म-समर्पण की भावना पैदा करता है।
  4. दिल की गहराइयों में आने का मौका: बालासन योग आपको आपके दिल की गहराइयों में आने का मौका देता है, और आपको आपके अंतर्दृष्टि से मिलवाता है।
  5. निम्न रक्तचाप की समस्या के लिए उपयोगी: बालासन योग का नियमित प्रयास करने से निम्न रक्तचाप की समस्या में सुधार हो सकता है।

नोट:

योग प्रैक्टिस करने से पहले एक योग गुरु से सलाह लेना महत्वपूर्ण है, विशेषतः यदि आपकी कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या हो।